शनिवार, 29 अप्रैल 2017

हमारे असली बाहुबली

हम देखते हैं हमारे ही पैसे से ही अमीर हुये बहुत ही क्रिकेटर तथा फ़िल्मी सितारे हमारे देश के जवान या अन्य किसी आपदा में मुहं फेर लेते है मगर इनमें से कुछ हैं जो दिल जीत लेते उनके लिए गर्व से सीना फुल जाता है इनमें से कुछ मुख्य है जिन्होंने  देश के लिए अपना सच्चा समर्पण दिखाया है.

क्रिकेटर गौतम गंभीर

भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर भी इस काम में आगे आए हैं. क्रिकेट खिलाड़ी गौतम गंभीर सुकमा में नक्सली हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवानों के परिवारों की मदद के लिए आगे आए हैं. उन्होंने शहीद 25 जवानों के बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाने का ऐलान किया है. कल जीते मैच में मैन ऑफ द मैच की अपनी इनामी राशि भी इन्हीं परिवारों में दान क्र दी वह गौतम गंभीर फाउंडेशन के जरिए यह मदद देंगे और इसके लिए जरूरी कदम उठाए जा चुके हैं.

अक्षय कुमार

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने भी देश के लोगों से सुकमा नक्सली हमले में शहीद जवानों के परिवारों की मदद करने की अपील की है. राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अक्षय ने एक ऑडियो मेसेज में कहा, 'हाल ही में हुए सुकमा हमले में सीआरपीएफ के हमारे बहादुर जवानों ने देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए. मेरा आप सबसे हाथ जोड़कर अनुरोध है कि अगर आप इन शहीदों के प्रति सच्ची श्रद्धांजिल अर्पित करना चाहते हैं तो भारत सरकार की वेबसाइट bharatkeveer.gov.in पर जाकर अपना योगदान दीजिए ताकि शहीदों के परिवारों को महसूस हो सके कि इस दुख की घड़ी में पूरा देश उनके साथ खड़ा है. वे अकेले नहीं हैं.'

गौरतलब है कि 11 मार्च को सुकमा में हुए नक्सली हमले के बाद बालीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने भी 12 सीआरपीएफ जवानों के परिवारों के लिए 1.08 करोड़ रुपए दान में दिए थे. अक्षय कुमार के इस कदम की सभी ने जमकर तारीफ की थी.

दरअसल, अक्षय ने शहीद हुए सीआरपीएफ जवानों के परिवारों को 9-9 लाख रुपए की आर्थिक मदद की है. अक्षय ने प्रत्येक परिवार को 9 लाख रुपए दिए हैं. यानि अक्षय ने शहीद के परिवारों की कुल मिलाकर 1.8 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद की है.

अक्षय कुमार इसके अलावा देश के किसानों की मदद क अलावा स्पोर्ट्स को बढ़ावा देने के लिए भी काम करते है. 2015 में बॉलीवुड सुपरस्टार अक्षय कुमार ने भी महाराष्ट्र में आत्महत्या कर चुके किसानों के परिवारों की मदद की थी. अक्षय ने 180 किसान परिवारों को 50-50 हजार रुपए की मदद की थी.

नाना पाटेकर

महाराष्ट्र के मराठवाड़ा से लेकर विदर्भ तक के किसानों पर सूखे ने जो कहर ढाहा था, वह किसी से छुपा नहीं है. किसानों की खुदकुशी देख बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता नाना पाटेकर से रहा नहीं गया और वे किसानों की मदद के लिए आगे आए. नाना ने महाराष्ट्र के अलग अलग इलाकों में जाकर किसानों की करीब 300 विधवाओं की आर्थिक मदद की थी और मकरंद अनासपुरे के साथ मिलकर उन्होंने किसान परिवारों के लिए 'नाम' नामक संस्था भी शुरु की.

नाना पाटेकर एक ऐसे एक्टर है जो अपनी आय का 70 प्रतिशत किसानों की विधवाओं को दान दे देते है. हालांकि ये अलग बात है कि वे इस बात का प्रचार नहीं करते है. मराठवाड़ा में उनके किए गए कार्यों को सभी जानते है. नाना वाकई में एक सच्चे इंसान है जो अपनी जड़ो को नहीं भूले है.

कारगिल युद्ध के दौरान सैनिकों का हौंसला बढ़ाते थे नाना नाना पाटेकर सेना और सैनिकों के लिए कितना सम्मान करते हैं, ये 1999 में भी दिखा था . कारगिल में जब हमारे सैनिक दिन-रात लड़ रहे थे, तो नाना की आंखों से भी नींद गायब थी. नाना पाटेकर ने कागरिल की जंग के दौरान हौंसला बढ़ाने के लिए बहुत सारा वक्त सैनिकों के साथ गुजारा था. वो एक पोस्ट से दूसरी पोस्ट पर घूमते हुए सैनिकों से मिलते और लड़ रहे सैनिकों से बातचीत करते थे. कारगिल युद्ध के दौरान नाना पाटेकर ने कहा था कि हमारी असली ताकत तोप और एके 47 नहीं हमारे जवान हैं. उन दिनों नाना ने लंबा वक्त सैनिकों के साथ गुजारा.

साइना नेहवाल

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार के बाद अब ओलंपिक में मेडल जीतने वाली साइना नेहवाल सुकमा नक्सली हमले में शहीद जवानों के परिवारों की मदद के लिए आगे आई थीं. साइना ने छह लाख रुपए (प्रत्येक को 50,000 रुपए) केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के उन 12 जवानों के परिवारों को दान देने का फैसला किया था, जो पिछले 11 मार्च 2017 को छत्तीसगढ़ में हुई मुठभेड़ में मारे गए थे.

अजिंक्य रहाणे

2015 में क्रिकेटर अंजिक्य रहाणे भी किसानों की मदद के लिए आगे आए थे. टीम इंडिया के खिलाड़ी अजिंक्य रहाणे ने भी 5 लाख रुपए किसानों के लिए दान किए थे. रहाणे ने मुख्यमंत्री राहत कोष में यह राशि जमा करवाई थी.

सलमान खान

सलमान और विवादों का रिश्ता बहुत पुराना है. अक्सर अपने विवादों के कारण सुर्खियों में रहने वाले सलमान खान गरीब बच्चों की सहायता करते हैं. सलमान की संस्था बीइंग ह्यूमन गरीब और बेसहरा बच्चों के इलाज और पढ़ाई में मदद करती है.सोर्स -Zee news

रविवार, 23 अप्रैल 2017

लू लगने से मृत्यु क्यों होती है ? बचने का उपाये

लू लगने से मृत्यु क्यों होती है ?

हम सभी धूप में घूमते हैं फिर कुछ लोगों की ही धूप में जाने के कारण अचानक मृत्यु क्यों हो जाती है ?

☀ हमारे शरीर का तापमान हमेशा 37° डिग्री सेल्सियस होता है, इस तापमान पर ही हमारे शरीर के सभी अंग सही तरीके से काम कर पाते है ।

☀ पसीने के रूप में पानी बाहर निकालकर शरीर 37° सेल्सियस टेम्प्रेचर मेंटेन रखता है, लगातार पसीना निकलते वक्त भी पानी पीते रहना अत्यंत जरुरी और आवश्यक है ।

☀ पानी शरीर में इसके अलावा भी बहुत कार्य करता है, जिससे शरीर में पानी की कमी होने पर शरीर पसीने के रूप में पानी बाहर निकालना टालता है । (बंद कर देता है )

☀ जब बाहर का टेम्प्रेचर 45° डिग्री के पार हो जाता है और शरीर की कूलिंग व्यवस्था ठप्प हो जाती है, तब शरीर का तापमान 37° डिग्री से ऊपर पहुँचने लगता है ।

☀ शरीर का तापमान जब 42° सेल्सियस तक पहुँच जाता है तब रक्त गरम होने लगता है और रक्त में उपस्थित प्रोटीन पकने लगता
है ।

☀  स्नायु कड़क होने लगते हैं इस दौरान सांस लेने के लिए जरुरी स्नायु भी काम करना बंद कर देते
हैं ।

☀ शरीर का पानी कम हो जाने से रक्त गाढ़ा होने लगता है, ब्लडप्रेशर low हो जाता है, महत्वपूर्ण अंग (विशेषतः ब्रेन) तक ब्लड सप्लाई रुक जाती है ।

☀ व्यक्ति कोमा में चला जाता है और उसके शरीर के एक-एक अंग कुछ ही क्षणों में काम करना बंद कर देते हैं, और उसकी मृत्यु हो जाती है ।

☀ गर्मी के दिनों में ऐसे अनर्थ टालने के लिए लगातार थोड़ा-2 पानी पीते रहना चाहिए और हमारे शरीर का तापमान 37° मेन्टेन किस तरह रह पायेगा इस ओर  ध्यान देना चाहिए ।

Equinox phenomenon: इक्विनॉक्स प्रभाव आने वाले दिनों में भारत को प्रभावित करेगा ।

कृपया 12 से 3 बजे के बीच घर, कमरे या ऑफिस के अंदर रहने का प्रयास करें ।

तापमान 40 डिग्री के आस पास विचलन की अवस्था मे रहेगा ।

यह परिवर्तन शरीर मे निर्जलीकरण और सूर्यातप की स्थिति उत्पन्न कर देगा ।

(ये प्रभाव भूमध्य रेखा के ठीक ऊपर सूर्य चमकने के कारण पैदा होता है) ।

कृपया स्वयं को और अपने जानने वालों को पानी की कमी से ग्रसित न होने दें ।

किसी भी अवस्था में कम से कम 3 लीटर पानी जरूर पियें । किडनी की बीमारी वाले प्रति दिन कम से कम 6 से 8 लीटर पानी जरूर लें ।

खीरा ,तरबूज,बेल के रस का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें
हाँ पेस्पी,कोकाकोला का ज्यदा सेवन मत करें
खाना हिसाब से खायें
ज्यदा तेल -मशाला वाले खाने से बचें

जहां तक सम्भव हो ब्लड प्रेशर पर नजर रखें । किसी को भी हीट स्ट्रोक हो सकता है ।

ठंडे पानी से नहाएं । इन दिनों मांस का प्रयोग छोड़ दें या कम से कम
करें ।

फल और सब्जियों को भोजन मे ज्यादा स्थान दें ।

हीट वेव कोई मजाक नही है ।

एक बिना प्रयोग की हुई मोमबत्ती को कमरे से बाहर या खुले मे रखें, यदि मोमबत्ती पिघल जाती है तो ये गंभीर स्थिति है ।

शयन कक्ष और अन्य कमरों मे 2 आधे पानी से भरे ऊपर से खुले पात्रों को रख कर कमरे की नमी बरकरार रखी जा सकती है ।

अपने होठों और आँखों को नम रखने का प्रयत्न करें ।

जनहित में इस सन्देश लिंक को ज्यादा से ज्यादा प्रसारित कर अपना और अपने जानकार लोगों का भला
करें ।

शनिवार, 22 अप्रैल 2017

भारत में उपस्थित दुनिया का सबसे बड़ा लंगर(भंडारा)

🙏क्या आप जानते हैं -?? विश्व की सबसे बड़ी लंगर
सेवा - हरमंदर साहिब ( गोल्डन टेम्पल ) अम्रतसर में
होती है।
👍अनुमान के मुताबिक़ 1 लाख श्रद्धालु रोजाना देश विदेश
से यहां दर्शनार्थ आते हैं - और लंगर प्रसादी ग्रहण
( छकते ) करते हैं।
👍साल दर साल जब से हरमंदर साहिब ( गोल्डन टेम्पल )
गुरुद्वारे का निर्माण हुवा है - ( लगभग 450 साल ) तब
से ही ये सेवा - अनवरत जारी है।
ये अपने आप में विश्व रिकार्ड है - और गिनीज बुक में
दर्ज है।
👍आओ आपको सम्पूर्ण जानकारी देते हैं - अमृतसर के
रामदास जी लंगर हाल की।
ज़रूर पड़े ----
👍दरबार साहिब (जो स्वर्ण मंदिर के नाम से प्रचलित है)
की लंगर
सेवा।
यह सिखों के पवित्र स्थल का वह निशुल्क - रसोई घर है
-👍 जहाँ एक
लाख (1,00,000) लोग प्रति दिन लंगर छकते है।
👍भारत का पहला ऐसा मुफ्त रसोई घर जहाँ 2 लाख
(2,00,000)
रोटियाँ और 1.5 टन दाल रोज़ाना बनती है।
👍2 लाख रोटियाँ और 1.5 टन दाल का लंगर तकरीबन 1
लाख संगत
एवं श्रद्धालुओं द्वारा छका जाता है।
👍हर रोज़ इतना लंगर उत्पादन और छकने वाला यह
आंकड़ा - पश्चिमी भारत के - अमृतसर शहर के पवित्र
गुरुद्वारा दरबार साहिब के इस निशुल्क रसोई घर को सब
श्रेणियों से महान एवं श्रेष्ठ रखता है।
👍यह आंकड़ा विशेष मौकों एवं छुट्टियों के दिनों में
दोगुना भी हो जाता है।
👍परन्तु लंगर में कभी - कमी नहीं आती।
सामान्य तौर पर लंगर में लगने वाली सामग्री 7000
किलो आटा -
1200 किलो चावल - 1300 किलो दाल - 500
किलो शुद्ध
देसी घी - रोज़ाना इस्तेमाल होता है।
👍इस रसोई घर में लंगर बनाने के लिए तरह - तरह की -
तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है -??
👍जैसे लकड़ी का - LPG
गैस का - और इलेक्ट्रॉनिक रोटी बनाने की मशीन का।
अनुमानतः 100 सिलिंडर एवं 500 किलो लकड़ी प्रति दिन
इस्तेमाल
होती है।
👍एवं तकरीबन 450 सेवादार इस निशुल्क रसोई घर में
सेवा करते है।
जिसमे अन्य बाहर से आयी संगत भी सेवा में लग
जाती है - जिसकी संख्या सैंकड़ों में होती है।
👍इस सेवा के अंतर्गत सब्जियें साफ़ करना - उन्हें
छिलना - काटना व धोना - इसके साथ
ही हजारो श्रद्धालुओं द्वारा - जुठे बर्तनों के सफाई
की सेवा - बड़े चाव व श्रद्धा से की जाती है।
👍इस रसोई घर का सालाना बजट हजारों करोड़ो में है।
सिक्ख गुरुओं का ये पहला सन्देश है की - प्रथ्वी पे
कोई भी जिव आत्मा भूखी ना रहे - पहले भूखे जीव
को भोजन - पश्चात भजन।
इस महान प्रेरणादायी लंगर सेवा और सन्देश को - देश
भर में सब को बताये - जो वास्तव में तारीफ़ के काबिल
है।🌷🔔🌷🔔🌷🔔🌷🔔🌷
🎀वाहेगुरु जी का खालसा🎀 -
🎀🙏वाहेगुरु जी की फ़तेह 🙏🎀-

हिन्दू धर्म की बेहद ही जरूरी बात

अधूरा ज्ञान खतरनाक होता है।

33 करोड़ नहीं 33 कोटि देवी देवता हैं हिंदू धर्म में ;

कोटि = प्रकार ।
देवभाषा संस्कृत में कोटि के दो अर्थ होते हैं ।

कोटि का मतलब प्रकार होता है और एक अर्थ करोड़ भी होता है।

हिंदू धर्म का दुष्प्रचार करने के लिए ये बात उड़ाई गयी की हिन्दूओं  के 33 करोड़ देवी देवता हैं और अब तो मुर्ख हिन्दू खुद ही गाते फिरते हैं की हमारे 33 करोड़ देवी देवता हैं...

कुल 33 प्रकार के देवी देवता हैँ हिंदू  धर्म में :-

12 प्रकार हैँ :-
आदित्य , धाता, मित, आर्यमा,
शक्रा, वरुण, अँशभाग, विवास्वान, पूष, सविता, तवास्था, और विष्णु...!

8 प्रकार हैं :-
वासु:, धरध्रुव, सोम, अह, अनिल, अनल, प्रत्युष और प्रभाष।

11 प्रकार हैं :-
रुद्र: ,हरबहुरुप, त्रयँबक,
अपराजिता, बृषाकापि, शँभू, कपार्दी,
रेवात, मृगव्याध, शर्वा, और कपाली।
                       एवँ
दो प्रकार हैँ अश्विनी और कुमार ।

कुल :- 12+8+11+2=33 कोटी

अगर कभी भगवान् के आगे हाथ जोड़ा है ।
तो इस जानकारी को अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाएं ।

यह बहुत ही अच्छी जानकारी है इसे अधिक से अधिक लोगों में बाँटिये और इस कार्य के माध्यम से पुण्य के भागीदार बनिये ।

👉 एक हिंदू होने के नाते जानना आवश्यक है ।

🙏अब आपकी बारी है कि इस जानकारी को आगे बढ़ाए
📜अपने भारत की संस्कृति
को पहचानें।
ज्यादा से ज्यादा
लोगों तक पहुचायें।

खासकर अपने बच्चों को बताएं
क्योंकि ये बात उन्हें कोई दूसरा व्यक्ति नहीं बताएगा...

         📜😇  दो पक्ष-

कृष्ण पक्ष ,
शुक्ल पक्ष !

         📜😇  तीन ऋण -

देव ऋण ,
पितृ ऋण ,
ऋषि ऋण !

         📜😇   चार युग -

सतयुग ,
त्रेतायुग ,
द्वापरयुग ,
कलियुग !

         📜😇  चार धाम -

द्वारिका ,
बद्रीनाथ ,
जगन्नाथ पुरी ,
रामेश्वरम धाम !

         📜😇   चारपीठ -

शारदा पीठ ( द्वारिका )
ज्योतिष पीठ ( जोशीमठ बद्रिधाम )
गोवर्धन पीठ ( जगन्नाथपुरी ) ,
शृंगेरीपीठ !

         📜😇 चार वेद-

ऋग्वेद ,
अथर्वेद ,
यजुर्वेद ,
सामवेद !

         📜😇  चार आश्रम -

ब्रह्मचर्य ,
गृहस्थ ,
वानप्रस्थ ,
संन्यास !

         📜😇 चार अंतःकरण -

मन ,
बुद्धि ,
चित्त ,
अहंकार !

         📜😇  पञ्च गव्य -

गाय का घी ,
दूध ,
दही ,
गोमूत्र ,
गोबर !

         📜

         📜😇 पंच तत्त्व -

पृथ्वी ,
जल ,
अग्नि ,
वायु ,
आकाश !

         📜😇  छह दर्शन -

वैशेषिक ,
न्याय ,
सांख्य ,
योग ,
पूर्व मिसांसा ,
दक्षिण मिसांसा !

         📜😇  सप्त ऋषि -

विश्वामित्र ,
जमदाग्नि ,
भरद्वाज ,
गौतम ,
अत्री ,
वशिष्ठ और कश्यप!

         📜😇  सप्त पुरी -

अयोध्या पुरी ,
मथुरा पुरी ,
माया पुरी ( हरिद्वार ) ,
काशी ,
कांची
( शिन कांची - विष्णु कांची ) ,
अवंतिका और
द्वारिका पुरी !

         📜😊  आठ योग -

यम ,
नियम ,
आसन ,
प्राणायाम ,
प्रत्याहार ,
धारणा ,
ध्यान एवं
समािध !

         📜

         📜

         📜😇   दस दिशाएं -

पूर्व ,
पश्चिम ,
उत्तर ,
दक्षिण ,
ईशान ,
नैऋत्य ,
वायव्य ,
अग्नि
आकाश एवं
पाताल

         📜😇 बारह मास -

चैत्र ,
वैशाख ,
ज्येष्ठ ,
अषाढ ,
श्रावण ,
भाद्रपद ,
अश्विन ,
कार्तिक ,
मार्गशीर्ष ,
पौष ,
माघ ,
फागुन !

         📜

         📜

         📜😇 पंद्रह तिथियाँ -

प्रतिपदा ,
द्वितीय ,
तृतीय ,
चतुर्थी ,
पंचमी ,
षष्ठी ,
सप्तमी ,
अष्टमी ,
नवमी ,
दशमी ,
एकादशी ,
द्वादशी ,
त्रयोदशी ,
चतुर्दशी ,
पूर्णिमा ,
अमावास्या !

         📜😇 स्मृतियां -

मनु ,
विष्णु ,
अत्री ,
हारीत ,
याज्ञवल्क्य ,
उशना ,
अंगीरा ,
यम ,
आपस्तम्ब ,
सर्वत ,
कात्यायन ,
ब्रहस्पति ,
पराशर ,
व्यास ,
शांख्य ,
लिखित ,
दक्ष ,
शातातप ,
वशिष्ठ !

**********************

इस पोस्ट के लिंक को अधिकाधिक शेयर करें जिससे सबको हमारी संस्कृति का ज्ञान हो।

बुधवार, 19 अप्रैल 2017

आपकी जिंदगी बदलने वाली चार लाइन

*_VERY NICE LINE_*
*_JARUR PADHE_*
🌹💕💞❤❣🏡💝

🌹एक दिन चिड़िया बोली - मुझे छोड़ कर कभी उड़ तो नहीं जाओगे❣

🌹चिड़ा ने कहा - उड़
जाऊं तो तुम पकड़ लेना.❣

🌹चिड़िया-मैं तुम्हें पकड़
तो सकती हूँ,
पर फिर पा तो नहीं सकती...❣

🌹यह सुन चिड़े की आँखों में आंसू आ गए और उसने अपने पंख तोड़ दिए और बोला अब हम
हमेशा साथ रहेंगे,❣

🌹लेकिन एक दिन जोर से तूफान आया,
चिड़िया उड़ने लगी तभी चिड़ा बोला तुम उड़
जाओ मैं नहीं उड़ सकता..❣

🌹चिड़िया- अच्छा अपना ख्याल रखना, कहकर
उड़ गई !❣

🌹जब तूफान थमा और चिड़िया वापस
आई तो उसने देखा की चिड़ा मर चुका था❣
❣और एक डाली पर लिखा था...❣

✍काश तुम एक बार तो कहती कि मैं तुम्हें नहीं छोड़ सकती""❣
🌹तो शायद मैं तूफ़ान आने से
पहले नहीं मरता❣
""
ज़िन्दगी के पाँच सच ~
सच नं. 1 -:🌹
माँ के सिवा कोई वफादार नही हो सकता…!!!❣
────────────────────────
सच नं. 2 -:🌹
गरीब का कोई दोस्त नही हो सकता…!!❣
────────────────────────
सच नं. 3 -:🌹
आज भी लोग अच्छी सोच को नही,
अच्छी सूरत को तरजीह देते हैं…!!!❣
────────────────────────
सच नं. 4 -:🌹
इज्जत सिर्फ पैसे की है, इंसान की नही…!!!❣
────────────────────────
सच न. 5 -:🌹
जिस शख्स को अपना खास समझो….
अधिकतर वही शख्स दुख दर्द देता है…❣

🌹❣❣🌹
 गीता में लिखा है कि.......

✍अगर कोई इन्सान
बहुत हंसता है , तो अंदर से वो बहुत अकेला है❣

🌹अगर कोई इन्सान बहुत सोता है , तो अंदर से
वो बहुत उदास है❣

✍अगर कोई इन्सान खुद को बहुत मजबूत दिखाता है और रोता नही , तो वो
अंदर से बहुत कमजोर है❣

✍अगर कोई जरा जरा सी
बात पर रो देता है तो वो बहुत मासूम और नाजुक दिल का है❣

✍अगर कोई हर बात पर
नाराज़ हो जाता है तो वो अंदर से बहुत अकेला
और जिन्दगी में प्यार की कमी महसूस करता है❣

🌹लोगों को समझने की कोशिश कीजिये ,जिन्दगी किसी का इंतज़ार नही करती ,❣
❣लोगों को एहसास कराइए की वो आप के लिए कितने खास है सर...❣

1🌹. अगर जींदगी मे कुछ पाना हो तो,,, तरीके बदलो....., ईरादे नही..❣

2🌹. जब सड़क पर बारात नाच रही हो तो हॉर्न मार-मार के परेशान ना हो...... गाडी से उतरकर थोड़ा नाच लें..., मन शान्त होगा।
टाइम तो उतना लगना ही है..❣

3🌹. इस कलयुग में रूपया चाहे कितना भी गिर जाए, इतना कभी नहीं गिर पायेगा, जितना रूपये के लिए इंसान गिर चूका है...❣

🌹❣सत्य वचन❣🌹

4🌹. रास्ते में अगर मंदिर देखो तो,,, प्रार्थना नहीं करो तो चलेगा . . पर रास्ते में एम्बुलेंस मिले तब प्रार्थना जरूर करना,,, शायद कोई
जिन्दगी बच जाये.....❣

5🌹. जिसके पास उम्मीद हैं, वो लाख बार हार के भी, नही हार सकता..❣

6🌹. बादाम खाने से उतनी अक्ल नहीं आती...
जितनी धोखा खाने से आती है...❣

7🌹. एक बहुत अच्छी बात जो जिन्दगी भर याद रखिये,,, आप का खुश रहना ही आप का बुरा चाहने वालों के लिए सबसे बड़ी सजा है....❣

8🌹. खुबसूरत लोग हमेशा अच्छे नहीं होते, अच्छे लोग हमेशा खूबसूरत नहीं होते...❣

9🌹. रिश्ते और रास्ते एक ही सिक्के के दो पहलु हैं... कभी रिश्ते निभाते निभाते रास्ते खो जाते हैं,,, और कभी रास्तो पर चलते चलते रिश्ते बन जाते हैं...❣

10🌹. बेहतरीन इंसान अपनी मीठी जुबान से ही जाना जाता है,,,, वरना अच्छी बातें तो दीवारों पर भी लिखी होती है...❣

11🌹. दुनिया में कोई काम "impossible" नहीं,,, बस होसला और मेहनत की जरूरत है...❣

12 🌹.प्यार,,, जीन्दगी मे उससे करो जौ आपसे प्यार करता हौ,,,,ना की उससे जीससे आप... 🌷
🌷 अपने सभी दोस्तो को लिंक
सेन्ड करे वरना ,🌷
🌷 🌷ये मेसेज आपके लिये फिजूल ह🌷🌷
🌷By- ajayyadavgk🌷🌷🌷

शनिवार, 15 अप्रैल 2017

हर काम करने से पहले सोचे जरुर यह कहानी देखिये


एक युवक ने विवाह के दो साल बाद
परदेस जाकर व्यापार करने की
इच्छा पिता से कही ।

पिता ने स्वीकृति दी तो वह अपनी गर्भवती पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे छोड़कर व्यापार करने चला गया ।

परदेश में मेहनत से बहुत धन कमाया और वह धनी सेठ बन गया ।

सत्रह वर्ष धन कमाने में बीत गए तो सन्तुष्टि हुई और वापस घर लौटने की इच्छा हुई ।

पत्नी को पत्र लिखकर आने की सूचना दी और जहाज में बैठ गया ।
उसे जहाज में एक व्यक्ति मिला जो दुखी मन से बैठा था ।

सेठ ने उसकी उदासी का कारण पूछा तो उसने बताया कि इस देश में ज्ञान की कोई कद्र नही है ।

मैं यहाँ ज्ञान के सूत्र बेचने आया था पर कोई लेने को तैयार नहीं है ।
सेठ ने सोचा ‘इस देश में मैने बहुत धन कमाया है,और यह मेरी कर्मभूमि है, इसका मान रखना चाहिए !’

उसने ज्ञान के सूत्र खरीदने की इच्छा जताई ।

उस व्यक्ति ने कहा-
मेरे हर ज्ञान सूत्र की कीमत 500 स्वर्ण मुद्राएं है ।

सेठ को सौदा तो महंगा लग रहा था..
लेकिन कर्मभूमि का मान रखने के लिए 500 स्वर्ण मुद्राएं दे दी ।

व्यक्ति ने ज्ञान का पहला सूत्र दिया-
कोई भी कार्य करने से पहले दो मिनट
रूककर सोच लेना ।

सेठ ने सूत्र अपनी किताब में लिख लिया ।

कई दिनों की यात्रा के बाद रात्रि के समय सेठ अपने नगर को पहुँचा ।

उसने सोचा इतने सालों बाद घर लौटा हूँ तो क्यों न चुपके से बिना खबर दिए सीधे पत्नी के पास पहुँच कर उसे आश्चर्य उपहार दूँ ।

घर के द्वारपालों को मौन रहने का इशारा करके सीधे अपने पत्नी के कक्ष में गया तो वहाँ का नजारा देखकर उसके पांवों के नीचे की जमीन खिसक गई ।

पलंग पर उसकी पत्नी के पास एक
युवक सोया हुआ था ।

अत्यंत क्रोध में सोचने लगा कि
मैं परदेस में भी इसकी चिंता करता रहा और ये यहां अन्य पुरुष के साथ है । दोनों को जिन्दा नही छोड़ूगाँ ।
क्रोध में तलवार निकाल ली ।

वार करने ही जा रहा था कि उतने में ही उसे 500 स्वर्ण मुद्राओं से प्राप्त ज्ञान सूत्र याद आया- कि कोई भी कार्य करने से पहले दो मिनट सोच लेना ।

सोचने के लिए रूका ।

तलवार पीछे खींची तो एक बर्तन से टकरा गई ।

बर्तन गिरा तो पत्नी की नींद खुल गई।

जैसे ही उसकी नजर अपने पति पर पड़ी वह ख़ुश हो गई और बोली:  आपके बिना जीवन सूना सूना था ।
इन्तजार में इतने वर्ष कैसे निकाले
यह मैं ही जानती हूँ ।

सेठ तो पलंग पर सोए पुरुष को
देखकर कुपित था ।

पत्नी ने युवक को उठाने के लिए कहा- बेटा जाग ।

तेरे पिता आए हैं ।

युवक उठकर जैसे ही पिता को प्रणाम
करने झुका माथे की पगड़ी गिर गई ।
उसके लम्बे बाल बिखर गए ।

सेठ की पत्नी ने कहा- स्वामी ये आपकी बेटी है ।

पिता के बिना इसके मान को कोई आंच न आए इसलिए मैंने इसे बचपन से ही पुत्र के समान ही पालन पोषण और संस्कार दिए हैं ।

यह सुनकर सेठ की आँखों से
अश्रुधारा बह निकली ।

पत्नी और बेटी को गले लगाकर
सोचने लगा कि यदि आज मैने उस ज्ञानसूत्र को नहीं अपनाया होता तो जल्दबाजी में कितना अनर्थ हो जाता ।

मेरे ही हाथों मेरा निर्दोष परिवार खत्म हो जाता ।

ज्ञान का यह सूत्र उस दिन तो मुझे महंगा लग रहा था लेकिन ऐसे सूत्र के लिए तो 500 स्वर्ण मुद्राएं बहुत कम हैं ।

‘ज्ञान तो अनमोल है ‘

इस कहानी का सार यह है कि
जीवन के दो मिनट जो दुःखों से बचाकर सुख की बरसात कर सकते हैं.

वे हैं – ‘क्रोध के दो मिनट’

इस कहानी को शेयर जरूर करें
क्योंकि आपका एक शेयर किसी व्यक्ति को उसके क्रोध पर अंकुश रखने के लिए  प्रेरित कर सक

गुरुवार, 30 मार्च 2017

मेरे वतन की नई तस्वीर बन रही है



💥68 साल पहले- एक गुजराती ने देश को"अंग्रेजों"से,"मुक्त"किया था !!

💥अब 68 साल बाद,एक गुजराती ने,देश को"कांग्रेस"से,"मुक्त"किया है !!

💥पहले वाला-गुजराती 'नोटो' पर छा गया !!!

💥अभी वाला-गुजराती 'वोटों' पर छा गया !!

💥 ऐ दोस्त - खिडकिया खोल के देखने दे,मुझे ..?????

💥मेरे वतन की,"नई तस्वीर"बन रही है !!!

🌻आज,भारत- फिरसे"आजाद" हुआ !!

💥➖पहले - "इग्लेड की रानी से!

💥 और आज :--💥

💥➖" ------------- से " !!!पैसे कमायें बिना इन्वेस्ट के अपने मोबाइल से

💥➖जो,पढ़ सके न खुद, किताब मांग रहे हैं ???

💥➖खुद, रख न पाए, वो हिसाब मांग रहे हैं ????

💥➖जो, कर सके न साठ साल में- कोई विकास देश का, वो 2 साल में जवाब मांग रहे हैं ????

💥➖आज - गधे गुलाब मांग रहे हैं?? चोर लुटेरे इन्साफ मांग रहे हैं??

💥➖जो Loot te रहे देश को,60 सालों तक ???

   💥सुना है,आज वो- 2 साल का हिसाब मांग रहे हैं??

💥 वर्षों बाद - एक नेता को,माँ गंगा की आरती करते देखा है !!

💥वरना - अब तक, एक परिवार की समाधियों पर,"फूल चढ़ते"देखा है।!!

💥वर्षों बाद - एक नेता को,अपनी"मातृभाषा"में बोलते देखा है ।!

💥वरना - अब तक,रटी रटाई "अंग्रेजी"बोलते देखा है।!

💥 ➖अब तक -एक परिवार की मूर्तियां बनते देखा है।!

💥वर्षों बाद-: एक नेता को,"संसद की माटी चूमते"देखा है !!

💥वर्षों बाद - एक नेता को,"देश के लिए रोते"देखा है !!

💥वरना - अब तक,"मेरे ---मार दिया"कह कर,वोटों की भीख मांगते देखा है।!

💥➖पाकिस्तान को घबराते देखा है !!

💥➖अमेरिका को झुकते देखा है।

💥इतने वर्षों बाद-भारत माँ को, खुलकर"मुस्कुराते"देखा है।

💥आप सभी से"निवेदन"है, इस मेसेज को,पुरे भारत ke,

हर एक नागरीक तक,पहुचाने में मेरी मदद करें! !! शेयर लिंक प्लीज़

बुधवार, 29 मार्च 2017

हमलोगों के स्कूल टाईम की आश्चर्यजनक बातें


हमारे स्कूल टाईम की वो लड़कीया भी किसी आतंकवादी से कम नही हुआ करती थी...
जो टिचर के क्लास मे आते ही याद
दिला देती है ..

सर आपने टेस्ट का बोला था...
😂
😂

आजकल के बच्चे क्या समझेंगे
😂
😂


हमने किन मुश्किल परिस्थितियों में पढ़ाई की है,

कभी कभी तो मास्टर जी हमें
मूड फ्रेश करने के लिये ही कूट दिया करते थे
😂
😂


मन की बात...

आज कल के बच्चे रिफ्रेश होने के लिए जहाँ वाटर पार्क, गेम सेंटर जाने की जिद करते हैं ...

वहीं हम ऐसे बच्चे थे जो मम्मी-पापा के एक झापङ से ही फ्रेश हो जाते थे.!
😂
😂
😂


वो भी क्या दिन थे....????
जब बच्चपन में कोई रिश्तेदार जाते समय 10 ₹ दे जाता था..

और माँ 8₹ टीडीएस काटकर 2₹ थमा देती थी....!!!
😁
😁
😁

घर का T.V बिगड़ जाए
तो माता-पिता कहते हैं..
बच्चों ने बिगाड़ा है;

और अगर बच्चे बिगड़ जाएं तो
कहते है..
T.V. ने बिगाड़ा है !!!
😛😛😛😛😛😛😛😛

आज कल के माँ बाप सुबह स्कूल बस में बच्चे को बिठा के ऐसे बाय बाय करते हैं जैसे पढ़ने नहीं विदेश यात्रा भेज रहें हो....

और
एक हम थे जो रोज़ लात खा के स्कूल जाते थे...
😤😤😤😤😤😤😤😤

4-4साल के बच्चे गाते फिर रहे हैं
"छोटी ड्रेस में बॉम्ब लगदी मैनु"

साला जब हम चार साल के थे तो 1 ही वर्ड याद था..
वही गाते फिरते थे...
"शक्ति शक्ति शक्तिमान-शक्तिमान"
😇😇😇😇😇😇😇😇

भला हो हनी सिंह और जॉन सीना का..
जिसने आज के बच्चो को फैशन के नाम पे बाल बारीक़ छोटे रखना सीखा दिया..

हमारी तो सबसे ज्यादा कुटाई ही बालो को लेके हुई थी।।
हम दिलजले के अजय देवगन बनके घूमते थे,
और जिस दिन पापा के हाथ लग जाते उस दिन नाईं की दुकान से क्रन्तिविर के नाना पाटेकर  बनाके ही घर लाते थे।।।

*Special Doston Ko Snd Kro*
*Love you friends*